दलितों गरीबो के मसीहा है नरेन्द्र मोदी
आजमगढ़(पवई )। पवई स्थित ज्योतिष संस्थान पर अखिल भारतीय बौद्ध शोध संस्थान की ओर से आयोजित संवाद में वक्ताओं ने राष्ट्रवाद संविधान और अंबेडकरवाद पर विस्तृत रूप से चर्चा की।

इस अवसर पर अखिल भारतीय बौद्ध सोध्ह संस्थान के राष्ट्रिय संयोजक अरुण कुमार सिंह बौद्ध ने   बतौर मुख्य अतिथि  ने कहा कि बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की हितेषी होने का दावा करने वाले दलोँ ने सिर्फ उनके लोगों को छला हैँ। वास्तव मे देश में उन्हें सम्मान सिर्फ भारतीय जनता पार्टी ने ही दिलाया, भाजपा ने पंच तीर्थ की स्थापना कर बाबा साहब के जन्म, शिक्षा, दीक्षा की जगहों को राष्ट्रीय स्मारक बनाने की दिशा में प्रयास किया। इस अवसर पर अध्यक्षता करते हुए ज्योतिष संस्थान के निदेस्ग्क रामयग्य  डूबे  ने कहा कि बाबा साहब को भारत रत्न का प्रस्ताव माननीय अटल बिहारी वाजपेई ने 1990मेँ रखा और दिलाया भी।ब्रिटेन में जहां वो रहते थे उस स्मारक को महाराष्ट्र की भाजपा सरकार ने ब्रिटेन से खरीद कर उनकी स्मृति में देश को समर्पित किया । उन्होंने नागपुर में जहां बौद्ध धर्म की दीक्षा ली उस स्थल को 2 अरब की लागत से बुध टूरिज्म के रूप में विकसित कर रहा है चाहे आरक्षण का मामला संविधान की सुरक्षा का मामला है देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने स्पष्ट रूप से कह दिया है की आरक्षण पर किसी प्रकार की खरोच मैं नहीं आने दूंगा। इसके बाद भी भाजपा को अंबेडकर विरोधी कहा जा रहा है जो कि निंदनीय है। चाहे सरकार की उज्जवला योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना या गाँव में शौचालय की योजना हो सभी योजनाओं में प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से दलितों और पिछड़ों को लाभ पहुंचाने का प्रयास सरकार कर रही है । इसके पूर्व दिल्ली से आए प्रोफेसर सुरेश चौधरी ने विषय प्रवर्तन किया । कार्यक्रम के संयोजक  डॉ. अवनीश सिंह ने  अतिथियों का परिचय कराते हुए  स्वागत किया, संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन श्री मुरली पाल जी ने किया ।इस अवसर पर डॉ अरविंद सिंह, डाँ अनिल प्रताप सिंह, प्रो. बीडी शर्मा, प्रो.रामनारायण, डॉ मनीष गुप्ता डॉ.आलोक दास, डॉ.विवेक सिँह, डॉ.अरुण दुबे , सुशील जी, संतोष त्रिपाठी, डॉ उदय सिंह डॉ राकेश दूबे आदि लोग उपस्थित थे।

ज्ञात हो की पवई ज्योतिष संस्थान सुल्तानपुर ,जौनपुर एव आजमगढ़ के मध्य में स्थित है !यहा पर स्थित शिव मंदिर में हजारो की संख्या में भक्त जलाभिशेष करने आते है !बड़ी संख्या में उपस्थित बाबा साहब भीम राव आंबेडकर के अनुयायियों ने भारत माता की जय एव भगवान् बुद्ध  की जय के उद्घोष भी किये !