विश्वनाथ कारिडोर के मंच से गंगा दर्शन करेंगे पीएम, ड्रीम प्रोजेक्ट का कल करेंगे भूमि पूजन

वाराणसी, ब्यूरो । बाबा दरबार से गंगा तट पर ललिता-मणिकर्णिका घाट तक कारिडोर निर्माण के लिए भूमि पूजन करने आठ मार्च को बनारस आ रहे पीएम मंच से ही बाबा के शिखर और मां गंगा का दर्शन करेंगे। इसके लिए बुधवार को कारिडोर क्षेत्र में तीन मंच बनाए गए। मंदिर दफ्तर के पास पूजन करने से पहले पीएम गर्भगृह में विधि विधान से बाबा की पूजा-आराधना करेंगे। इस दौरान स्थलीय निरीक्षण के साथ ही डिजाइन व मॉडल भी देखेंगे। श्रीकाशी विश्वनाथ विशिष्ट क्षेत्र विकास परिषद की ओर से इस लिहाज से इंतजाम किए गए हैं। इसके लिए परिषद प्रशासन पूरे दिन और रात में भी जूझता रहा। गेट नंबर चार छत्ताद्वार से दफ्तर होते नीलकंठ तक अस्थायी सड़क तैयार कर ली गई। कारिडोर क्षेत्र में खाली कराए जा चुके 30 हजार वर्ग मीटर क्षेत्र का समतलीकरण व सफाई की जाती रही। आनन-फानन बायो टायलेट भी लगा दिए गए। 


मंदिरों की धुलाई, चमका रहे शिखर : कारिडोर पीएम के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल है। इसमें भवनों के ध्वस्तीकरण में मिले मंदिरों के संरक्षण के उनके निर्देश को देखते हुए सभी देवालयों की धुलाई के साथ शिखरों को भी चमकाया जाता रहा। बाबा दरबार में फर्श से लेकर दरवाजों तक की सफाई-धुलाई में सक्रियता दिखी। 


  


कमी मिली तो तत्काल कार्रवाई : मंडलायुक्त, जिलाधिकारी व विशिष्ट क्षेत्र विकास परिषद सीईओ ने कारिडोर क्षेत्र में कराए जा रहे कार्यों का कई चरणों में निरीक्षण किया। साफ शब्दों में कहा कि किसी भी स्तर पर कोई कमी या चूक मिली तो संबंधित अधिकारी-कर्मचारी कार्रवाई के दायरे में होंगे। 


24 घंटे पहले सील होगा कारिडोर, ड्रोन से निगरानी : पीएम के आगमन से 24 घंटे पहले कारिडोर क्षेत्र सील हो जाएगा। इस लिहाज से तैयारियों में तेजी रखने का निर्देश दिया गया। एसपीजी ने पूरे परिक्षेत्र का निरीक्षण किया और आधे घंटे तक ड्रोन उड़ाकर चप्पे-चप्पे पर नजर दौड़ाई। मंगलवार को भी निरीक्षण कर सतर्कता के संबंध में  अफसरों को सुझाव दिए गए थे। पांच सदस्यी दल ने ज्ञानवापी द्वार से लेकर नीलकंठ होते भीतर तक अवलोकन कर हर बिंदुओं को नोट किया। वापसी में अफसरों आलाधिकारियों संग बैठक भी की। इसमें कमिश्नर, डीएम, सीईओ आदि थे।