न्यूजीलैंड शूटिंग हादसे पर पीएम ने जताई संवेदना कहा-'दुख की घड़ी में हम साथ हैं'

न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में हुई फायरिंग में निर्दोष लोगों के मारे जाने पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जताया है।


नयी दिल्ली:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न्यूजीलैंड की अपनी समकक्ष को पत्र लिखकर क्राइस्टचर्च में इबादत के स्थान पर गोलीबारी में निर्दोष लोगों की मौत पर गहरी संवेदना एवं दुख प्रकट किया।प्रधानमंत्री ने जोर दिया कि विविधतापूर्ण एवं लोकतांत्रिक समाज में हिंसा के लिये कोई स्थान नहीं है।विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी ने न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न को पत्र लिखा।



प्रधानमंत्री मोदी ने अपने पत्र में क्राइस्टचर्च हमले में मारे गए लोगों के प्रति गहरी संवेदना प्रकट की और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की।मोदी ने इस कठिन घड़ी में न्यूजीलैंड के मित्रवत लोगों के प्रति पूरी एकजुटता व्यक्त की।प्रधानमंत्री ने जोर दिया कि भारत आतंकवाद के हर स्वरूप और ऐसे कार्यों का समर्थन देने वालों की कड़ी निंदा करता है।


शुक्रवार देर रात विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट किया, 'हम क्राइस्टचर्च में धर्मस्थलों पर हुए कायरतापूर्ण आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करते हैं। हमारी संवेदनाएं प्रियजनों को खोने वालों के साथ हैं। हमारी संवेदनाएं और प्रार्थनाएं पीड़ित परिवारों के साथ हैं।' उन्होंने कहा कि दुख की इस घड़ी में भारत न्यूजीलैंड की सरकार और जनता के साथ एकजुटता से खड़ा है।


उन्होंने लिखा है, किसी भी भारतीय को यदि जरूरत पड़े तो वह न्यूजीलैंड में भारतीय उच्चायोग से 021803899 और 021850033 पर संपर्क कर सकता है।गौरतलब है कि मध्य क्राइस्टचर्च की अल नूर मस्जिद और शहर के बाहरी हिस्से में लिनवुड मस्जिद पर हमलों में कम से कम 49 लोगों की मौत हो गयी।


New Zealand shooting: बदला लेना चाहता था 49 लोगों की जान लेने वाला हमलावर, किया था पाकिस्‍तान का भी दौरा


इससे पहले, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने नयी दिल्ली में कहा कि न्यूजीलैंड में भारतीय उच्चायोग अधिक जानकारी के लिए स्थानीय अधिकारियों के संपर्क में है।


उन्होंने कहा, 'हमारा मिशन अधिक जानकारी एकत्र करने के लिए स्थानीय अधिकारियों के संपर्क में है। यह एक संवेदनशील मामला है और इसलिए जब तक हम पूरी तरह से निश्चिंत नहीं हो जाते, तब तक हम संख्या या नाम नहीं बता सकते हैं।'