नेपाल पुलिस को चकमा देकर फरार माओवादी कमांडर बहराइच में गिरफ्तार
नेपाल पुलिस को चकमा देकर फरार माओवादी कमांडर बहराइच में गिरफ्तार

    बहराइच में आदर्श आचार संहिता के अंतर्गत नोमैंस लैंड के पास बने बैरियर पर सघन जांच तलाशी अभियान के दौरान पुलिस ने माओवादी कमांडर को गिरफ्तार किया है। दरअसल, चेकिंग के दौरान जमुनहा नेपाली सीमा क्षेत्र से भारतीय सीमा क्षेत्र की ओर एक व्यक्ति तेजी से आता हुआ दिखाई दिया। जिसके पीछे नेपाल के कुछ पुलिसकर्मी भी थे।

    उस व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। तभी नोमैंस लैंड पर नेपाली पुलिस भी मौके पर आ गए। पूछताछ करने पर पता लगा कि पकड़ा गया व्यक्ति नेपाल का फरार माओवादी कमांडर है। जिसको नेपाली न्यायालय द्वारा अपहरण के मामले में सजा सुनाई गई थी।यह व्यक्ति 2013 से नेपाल से फरार चल रहा था। इसे न्यायालय के सामने पेश करने के लिए नेपाली पुलिस ले जा रही थी। तभी यह चकमा देकर फरार हो गया। नेपाल के न्यायिक आदेश के अनुसार, इस पर 9 लाख 50 हजार रुपये का जुर्माना है। 9 साल की सजा भी हुई थी।

2013 में अपहरण के एक मामले में यह फरार चल रहा था।इसकी पहचान निजामुद्दीन साईं ऊर्फ मुल्ला उर्फ नटवरलाल के रूप में हुयी।यह चार भाई हैं।

जिसमें से इसके दो भाई पहले से सजायाफ्ता है।आज यह पकड़ा गया।इसे लेकर तीन भाई नेपालगंज में अब हिरासत में है। एक भाई चांद अभी फरार चल रहा है।इसके बाप भी नेपाल के न्यायिक हिरासत में बंद है। 

इसने नेपाल के उपनिरीक्षक के लड़के का अपहरण किया था जिसका आज तक कोई सुराग ना मिल सका है।नेपाल के जिला बांके के पुलिस अधीक्षक अरुण पौडेल ने बताया कि पकड़ा गया निजामुद्दीन न्यायालय से फरार हो गया था।

जो सीमा क्षेत्र से भागते वक्त भारतीय नोमैंस लैंड के पास जांच कर रहे प्रभारी निरीक्षक रुपईडीहा मधुपनाथ मिश्रा के सहयोग से पकड़ा गया।