जौनपुर में फर्जीवाड़ा करने के आरोप में हेड मास्टर निलंबित* *सहायक अध्यापक का वेतन रोका

जौनपुर में फर्जीवाड़ा करने के आरोप में हेड मास्टर निलंबित*
*सहायक अध्यापक का वेतन रोका*


जौनपुर। आयकर में छूट लेने के लिए फर्जी फीस रसीद लगाने के आरोप में बीएसए ने शनिवार को खुटहन ब्लाक के एक शिक्षक को निलंबित कर दिया।
धर्मापुर ब्लाक के दूसरे शिक्षक का वेतन रोक दिया गया है।
आरोप है कि इन दोनों शिक्षकों ने फर्जीवाड़ा किया था। प्रधानाध्यापक भोलानाथ यादव के खिलाफ आरोप है कि आयकर में छूट लेने की खातिर फीस की फर्जी रसीद लगा कर फर्जीवाड़ा किया था।
इस प्रकरण की सूचना बीएसए डा. राजेन्द्र सिंह को मिली तो उन्होंने वित्त एंव लेखाधिकारी नन्दराम कुरील से मामले की जांच कराई। जिसमें खुलासा हुआ कि प्रधानाध्यापक ने नेशनल पब्लिक स्कूल गढ़ासैनी नौपेड़वां में बच्चों के पढ़ने के संबंध में जमा किए जाने वाले फीस की रसीद लगाई थी।
जांच रिपोर्ट आने के बाद बीएसए डा. सिंह ने उक्त हेड मास्टर को निलंबित कर दिया।
इसी प्रकार धर्मापुर विकास खंड के जूनियर हाईस्कूल धर्मापुर में सहायक अध्यापक के रूप में तैनात नुजहत जहां का वेतन रोक दिया गया है। आरोप है कि उन्होंने अपने विद्यालय में फर्जी तरीके से छात्रों का नामांकन बढ़ाते हुए विभाग को भी लंबा चूना लगा दिया। इस मामले की शिकायत मुख्यमंत्री के शिकायती पोर्टल आईजीआरएस पर आनलाइन हुई। जिसकी जांच धर्मापुर विकास खंड की बीईओ सुधा वर्मा को सौंपी गई।
श्रीमती वर्मा ने जांच किया तो उसमें चौकाने वाले तथ्यों का खुलासा हुआ।
इस संबंध में बीएसए डा. राजेन्द्र सिंह ने बताया कि नुसरत जहां ने उपस्थित रजिस्टर पर फर्जी छात्र संख्या अंकित करके उन बच्चों के नाम से जूता मोजा, स्कूल बैग, ड्रेस समेत अन्य पाठ्य सामग्री में धांधली की है। जिसके बाद उक्त सहायक अध्यापक को वेतन रोकते हुए उनके विरूद्ध प्रतिकूल दी गई।